HomeBreaking NewsUnique Marriage In Mp Father Got The Daughter Married To Lord Krishna...

Unique Marriage In Mp Father Got The Daughter Married To Lord Krishna Read More In Hindi – Mp में अनोखी शादी: इस शख्स ने भगवान कृष्ण से कराया बेटी का ब्याह, वजह जानकर नम हो जाएंगी आंखें


शिशुपाल राठौर, बेटी सोनल के साथ

शिशुपाल राठौर, बेटी सोनल के साथ
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

आप कई शादियों में शामिल हुए होंगे और कई बरातें देखी होगी, हाल ही में मध्यप्रदेश के ग्वालियर शहर में सात नवंबर को एक अनोखी बरात देखने को मिली। उसे जिसने भी देखा बस देखता ही रह गया, इस शादी के चर्चे भी दूर-दूर तक हो रहे हैं। दरअसल ग्वालियर में एक पिता अपनी बीमार बेटी की शादी भी आम लड़कियों की तरह कराना चाहते थे, लेकिन लाइलाज बीमारी के चलते वह अपनी बेटी की शादी नहीं करा पा रहे थे,  फिर उन्होंने बेटी की शादी भगवान कृष्ण से करने का फैसला किया और धूमधाम से बेटी की शादी कर उसे विदा किया।

रीति रिवाज से की गई शादी
ग्वालियर जिले के मोहना निवासी शिशुपाल राठौर पेशे से व्यवसायी है, जब उनसे लोगों ने बेटी की शादी कराने के बारे में कहा तो वह भी सोच में पड़ गए कि आखिर बीमार बेटी से शादी कौन करेगा, जिसके बाद शिशुपाल ने भगवान कृष्ण से बेटी का ब्याह रचाने का फैसला किया और नाते रिश्तेदारों को विवाह में आने के लिए आमंत्रित किया, रिश्तेदार भी शादी का न्यौता का पाकर सोच में पड़ गए कि आखिर सोनल से शादी कौन कर रहा है, लेकिन जब बरात देखी तो रिश्तेदार भी खुशी से झूम उठे। 

ब्रेन नर्व डिसऑर्डर जैसी लाइलाज बीमारी से जूझ रही सोनल राठौरी की शादी उनके पिता ने बिल्कुल वैसे ही की जैसे वह अपनी बाकी दो बेटियों की करेंगे। शादी में हल्दी, माता पूजन, मेहंदी सभी रस्में हुई, धूमधाम से डीजे की थाप पर बरात भी निकाली गई, रिश्तेदार बरात में नाचते गाते शामिल हुए। भाई-पिता और बुआ ने शादी में होने वाली सभी रस्में अदा की। वहीं, शादी के बाद सोनल को मंदिर से विदा किया गया और विदाई के बाद वह पिता के घर वापस आ गई। सोनल की शादी से उनसे माता-पिता, भाई-बहने के साथ ही अन्य सभी रिश्तेदार काफी खुश हैं। 

पांच साल की उम्र से बीमारी से जूझ रही है सोनल
सोनल की उम्र वर्तमान में 26 साल है। उसके पिता शिशुपाल ने बताया कि वह जन्म के बाद पांच साल की उम्र से इस बीमारी से जूझ रही है। 2019 से अब वह पूरी तरह बेड रेस्ट पर है। बेटी का हर तरह से इलाज कराया गया लेकिन उसे आराम नहीं मिला। पिता पर बेटी के सामाजिक संस्कार पूरे कराने का बोझ था, उन्होंने भगवान कृष्ण से शादी करा सोनल को विवाहिता होने का गौरव भी दिया है। परिजनों का मानना है कि सोनल को अब भगवान कृष्ण ही सहारा देंगे। सोनल की शादी के चर्चे दूर-दूर तक हो रहे हैं, वहीं लोग इस अनोखी शादी की तारीफ भी कर रहे हैं।
 

विस्तार

आप कई शादियों में शामिल हुए होंगे और कई बरातें देखी होगी, हाल ही में मध्यप्रदेश के ग्वालियर शहर में सात नवंबर को एक अनोखी बरात देखने को मिली। उसे जिसने भी देखा बस देखता ही रह गया, इस शादी के चर्चे भी दूर-दूर तक हो रहे हैं। दरअसल ग्वालियर में एक पिता अपनी बीमार बेटी की शादी भी आम लड़कियों की तरह कराना चाहते थे, लेकिन लाइलाज बीमारी के चलते वह अपनी बेटी की शादी नहीं करा पा रहे थे,  फिर उन्होंने बेटी की शादी भगवान कृष्ण से करने का फैसला किया और धूमधाम से बेटी की शादी कर उसे विदा किया।

रीति रिवाज से की गई शादी

ग्वालियर जिले के मोहना निवासी शिशुपाल राठौर पेशे से व्यवसायी है, जब उनसे लोगों ने बेटी की शादी कराने के बारे में कहा तो वह भी सोच में पड़ गए कि आखिर बीमार बेटी से शादी कौन करेगा, जिसके बाद शिशुपाल ने भगवान कृष्ण से बेटी का ब्याह रचाने का फैसला किया और नाते रिश्तेदारों को विवाह में आने के लिए आमंत्रित किया, रिश्तेदार भी शादी का न्यौता का पाकर सोच में पड़ गए कि आखिर सोनल से शादी कौन कर रहा है, लेकिन जब बरात देखी तो रिश्तेदार भी खुशी से झूम उठे। 

ब्रेन नर्व डिसऑर्डर जैसी लाइलाज बीमारी से जूझ रही सोनल राठौरी की शादी उनके पिता ने बिल्कुल वैसे ही की जैसे वह अपनी बाकी दो बेटियों की करेंगे। शादी में हल्दी, माता पूजन, मेहंदी सभी रस्में हुई, धूमधाम से डीजे की थाप पर बरात भी निकाली गई, रिश्तेदार बरात में नाचते गाते शामिल हुए। भाई-पिता और बुआ ने शादी में होने वाली सभी रस्में अदा की। वहीं, शादी के बाद सोनल को मंदिर से विदा किया गया और विदाई के बाद वह पिता के घर वापस आ गई। सोनल की शादी से उनसे माता-पिता, भाई-बहने के साथ ही अन्य सभी रिश्तेदार काफी खुश हैं। 

पांच साल की उम्र से बीमारी से जूझ रही है सोनल

सोनल की उम्र वर्तमान में 26 साल है। उसके पिता शिशुपाल ने बताया कि वह जन्म के बाद पांच साल की उम्र से इस बीमारी से जूझ रही है। 2019 से अब वह पूरी तरह बेड रेस्ट पर है। बेटी का हर तरह से इलाज कराया गया लेकिन उसे आराम नहीं मिला। पिता पर बेटी के सामाजिक संस्कार पूरे कराने का बोझ था, उन्होंने भगवान कृष्ण से शादी करा सोनल को विवाहिता होने का गौरव भी दिया है। परिजनों का मानना है कि सोनल को अब भगवान कृष्ण ही सहारा देंगे। सोनल की शादी के चर्चे दूर-दूर तक हो रहे हैं, वहीं लोग इस अनोखी शादी की तारीफ भी कर रहे हैं।

 





Source link

Advertisement
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

POPULAR POST

- Advertisment -