HomeBarabankiThree Killed Including Lawyer, 10 Victims Found - वकील समेत तीन की...

Three Killed Including Lawyer, 10 Victims Found – वकील समेत तीन की मौत, 10 मिले पीड़ित


ख़बर सुनें

बाराबंकी। डेंगू जैसी बीमारी से ग्रसित अधिवक्ता व दो महिलाओं की रविवार को इलाज के दौरान मौत हो गई, वहीं 10 लोग डेंगू व बुखार जैसे लक्षणों से पीड़ित पाए गए हैं, जिन्हें परिजनों ने अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया है। डेंगू जैसे लक्षणों से अब तक जिले में करीब 21 लोगों की जान जा चुकी है। लोगों में डेंगू का खौफ इस तरह से घर कर गया है कि मामूली सा बुखार होने पर भी लोग अस्पताल की और भाग रहे हैं। यही कारण हैं कि अस्पतालों में दिनोंदिन मरीजों की भीड़ बढ़ती जा रही है।
शहर के रफीनगर मोहल्ला निवासी अधिवक्ता इकबाल अरशद बुखार से पीड़ित थे। हालत बिगड़ने पर परिजनों ने लखनऊ के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां पर चिकित्सकों की ओर से कराई गई जांच में डेंगू जैसे लक्षण पाए जाने पर इनका इलाज चल रहा था। रविवार को वकील न दम तोड़ दिया।
इसी प्रकार शहर के रसौली निवासी रिहाना भी कई दिनों से बुखार से पीड़ित थी। पति रियाज ने बताया कि हालत में सुधार नहीं होने पर शहर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां पर जांच में डेंगू जैसे लक्षण पाए जाने पर इलाज चल रहा था, तभी रविवार को मौत हो गई। इसी प्रकार असंद्रा क्षेत्र के अवस्थी का पुरवा निवासी रामा देवी कई दिनों से बुखार से पीड़ित थीं। हालत बिगड़ने पर परिजनों ने निजी चिकित्सक को दिखाया, जहां पर चिकित्सक द्वारा कराई गई जांच में इनमें भी डेंगू जैसे लक्षण पाए गए थे, जिस पर इनका इलाज चल रहा था। रविवार को इनकी भी मौत हो गई।
वहीं शहर के रोहित सिंह, हरिप्रसाद, मोहनलाल, बाल बिहार के गौतम, सेवक कानून गोयन के तनिश, रामनगर के छवि, अमदहा के उमेश समेत करीब 10 लोग डेंगू और बुखार जैसे रोग से पीड़ित पाए गए हैं, जिन्हें परिजनों ने अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया है।
इस तरह से जिले में अब तक डेंगू जैसे लक्षणों से करीब 21 लोगों की जान जा चुकी है। परंतु विभाग किसी भी मौत को डेंगू से मौत होने की बात नहीं मान रहा है। विभाग एलाइजा जांच को ही डेंगू की सही जांच मान रहा है। जबकि लोगों में डेंगू को लेकर दहशत है और मामूली बुखार पर भी लोग अस्पतालों को पहुंच रहे हैं। यही कारण है कि अस्पतालों में दिनोंदिन मरीजों की भीड़ बढ़ती जा रही है।
अधिवक्ता की मौत का अभी कारण नहीं स्पष्ट हो सका है। असंद्रा क्षेत्र और रसौली में जो दो महिलाओं की मौत हुई, इसकी जानकारी नहीं है। तीनों लोगों की मौत की जांच टीम भेजकर कराई जाएगी। जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
डॉ. अवधेश कुमार यादव, सीएमओ

बाराबंकी। डेंगू जैसी बीमारी से ग्रसित अधिवक्ता व दो महिलाओं की रविवार को इलाज के दौरान मौत हो गई, वहीं 10 लोग डेंगू व बुखार जैसे लक्षणों से पीड़ित पाए गए हैं, जिन्हें परिजनों ने अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया है। डेंगू जैसे लक्षणों से अब तक जिले में करीब 21 लोगों की जान जा चुकी है। लोगों में डेंगू का खौफ इस तरह से घर कर गया है कि मामूली सा बुखार होने पर भी लोग अस्पताल की और भाग रहे हैं। यही कारण हैं कि अस्पतालों में दिनोंदिन मरीजों की भीड़ बढ़ती जा रही है।

शहर के रफीनगर मोहल्ला निवासी अधिवक्ता इकबाल अरशद बुखार से पीड़ित थे। हालत बिगड़ने पर परिजनों ने लखनऊ के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां पर चिकित्सकों की ओर से कराई गई जांच में डेंगू जैसे लक्षण पाए जाने पर इनका इलाज चल रहा था। रविवार को वकील न दम तोड़ दिया।

इसी प्रकार शहर के रसौली निवासी रिहाना भी कई दिनों से बुखार से पीड़ित थी। पति रियाज ने बताया कि हालत में सुधार नहीं होने पर शहर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां पर जांच में डेंगू जैसे लक्षण पाए जाने पर इलाज चल रहा था, तभी रविवार को मौत हो गई। इसी प्रकार असंद्रा क्षेत्र के अवस्थी का पुरवा निवासी रामा देवी कई दिनों से बुखार से पीड़ित थीं। हालत बिगड़ने पर परिजनों ने निजी चिकित्सक को दिखाया, जहां पर चिकित्सक द्वारा कराई गई जांच में इनमें भी डेंगू जैसे लक्षण पाए गए थे, जिस पर इनका इलाज चल रहा था। रविवार को इनकी भी मौत हो गई।

वहीं शहर के रोहित सिंह, हरिप्रसाद, मोहनलाल, बाल बिहार के गौतम, सेवक कानून गोयन के तनिश, रामनगर के छवि, अमदहा के उमेश समेत करीब 10 लोग डेंगू और बुखार जैसे रोग से पीड़ित पाए गए हैं, जिन्हें परिजनों ने अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया है।

इस तरह से जिले में अब तक डेंगू जैसे लक्षणों से करीब 21 लोगों की जान जा चुकी है। परंतु विभाग किसी भी मौत को डेंगू से मौत होने की बात नहीं मान रहा है। विभाग एलाइजा जांच को ही डेंगू की सही जांच मान रहा है। जबकि लोगों में डेंगू को लेकर दहशत है और मामूली बुखार पर भी लोग अस्पतालों को पहुंच रहे हैं। यही कारण है कि अस्पतालों में दिनोंदिन मरीजों की भीड़ बढ़ती जा रही है।

अधिवक्ता की मौत का अभी कारण नहीं स्पष्ट हो सका है। असंद्रा क्षेत्र और रसौली में जो दो महिलाओं की मौत हुई, इसकी जानकारी नहीं है। तीनों लोगों की मौत की जांच टीम भेजकर कराई जाएगी। जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

डॉ. अवधेश कुमार यादव, सीएमओ





Source link

Advertisement
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

POPULAR POST

- Advertisment -