HomeBarabankiCrime - बार महामंत्री समेत 15 पर लूट व मारपीट का मुकदमा

Crime – बार महामंत्री समेत 15 पर लूट व मारपीट का मुकदमा


ख़बर सुनें

बाराबंकी। जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष व महामंत्री के बीच पिछले कई दिनों से चली आ रही रार मुकदमेबाजी तक आ गई। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेंद्र वर्मा ने महामंत्री रितेश मिश्र समेत दो वकीलों को नामजद करते हुए 15 अज्ञात के खिलाफ लूट, मारपीट करने व एससी-एसटी का केस दर्ज कराया है। जबकि, महामंत्री का कहना है कि उन पर झूठा केस दर्ज कराया गया है। इसके लिए वे मानहानि करेंगे। इसे लेकर पूरा दिन कचहरी में गहमागहमी रही।
बार एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेंद्र वर्मा द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमे में कहा गया है कि महामंत्री रितेश मिश्र द्वारा आय-व्यय का ब्यौरा सदस्यों को नहीं दिया जा रहा है। इसे लेकर बीते 9 सितंबर को बैठक में भी ब्यौरा नहीं प्रस्तुत किया। 12 सितंबर को स्वयं बैठक बुलाई मगर नहीं आए। फोन किया तो अभद्रता की।
इस पर कार्यकारिणी के 17 सदस्यों ने महामंत्री को आय-व्यय का ब्यौरा देने तक निलंबित कर दिया। मंगलवार को इसी को लेकर महामंत्री रितेश मिश्र अपने साथी संजय मिश्र व 10 से 15 अज्ञात लोगों के साथ उसकी सीट पर आए और मारपीट करने लगे।
आरोप लगाया कि सोने की चेन भी छीन ले गए। उधर, महामंत्री रितेश मिश्र ने बताया कि, अध्यक्ष द्वारा फर्जी केस दर्ज कराया गया है। वे इसे लेकर मानहानि का केस दायर करेंगे। शहर कोतवाल संजय मौर्य ने बताया कि केस दर्ज कर जांच की जा रही है।
दो गुटों में नजर आए वकील
अध्यक्ष व महामंत्री के बीच विवाद को लेकर मंगलवार को वकील पूरा दिन कचहरी में चर्चा करते देखे गए। कुछ वकील जहां अध्यक्ष के पक्ष में बोलते नजर आए तो कुछ महामंत्री का समर्थन कर रहे थे। वकीलों के बीच तनातनी देखते हुए न्यायालय परिसर की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है।

बाराबंकी। जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष व महामंत्री के बीच पिछले कई दिनों से चली आ रही रार मुकदमेबाजी तक आ गई। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेंद्र वर्मा ने महामंत्री रितेश मिश्र समेत दो वकीलों को नामजद करते हुए 15 अज्ञात के खिलाफ लूट, मारपीट करने व एससी-एसटी का केस दर्ज कराया है। जबकि, महामंत्री का कहना है कि उन पर झूठा केस दर्ज कराया गया है। इसके लिए वे मानहानि करेंगे। इसे लेकर पूरा दिन कचहरी में गहमागहमी रही।

बार एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेंद्र वर्मा द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमे में कहा गया है कि महामंत्री रितेश मिश्र द्वारा आय-व्यय का ब्यौरा सदस्यों को नहीं दिया जा रहा है। इसे लेकर बीते 9 सितंबर को बैठक में भी ब्यौरा नहीं प्रस्तुत किया। 12 सितंबर को स्वयं बैठक बुलाई मगर नहीं आए। फोन किया तो अभद्रता की।

इस पर कार्यकारिणी के 17 सदस्यों ने महामंत्री को आय-व्यय का ब्यौरा देने तक निलंबित कर दिया। मंगलवार को इसी को लेकर महामंत्री रितेश मिश्र अपने साथी संजय मिश्र व 10 से 15 अज्ञात लोगों के साथ उसकी सीट पर आए और मारपीट करने लगे।

आरोप लगाया कि सोने की चेन भी छीन ले गए। उधर, महामंत्री रितेश मिश्र ने बताया कि, अध्यक्ष द्वारा फर्जी केस दर्ज कराया गया है। वे इसे लेकर मानहानि का केस दायर करेंगे। शहर कोतवाल संजय मौर्य ने बताया कि केस दर्ज कर जांच की जा रही है।

दो गुटों में नजर आए वकील

अध्यक्ष व महामंत्री के बीच विवाद को लेकर मंगलवार को वकील पूरा दिन कचहरी में चर्चा करते देखे गए। कुछ वकील जहां अध्यक्ष के पक्ष में बोलते नजर आए तो कुछ महामंत्री का समर्थन कर रहे थे। वकीलों के बीच तनातनी देखते हुए न्यायालय परिसर की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है।



Source link

Advertisement
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

POPULAR POST

- Advertisment -